Featured Post

Lifestyle

aducation system india

सच्ची शिक्षा क्या है || what is true aducation 



सच्ची शिक्षा केवल  सिखने से नहीं है बल्कि चरित्र निर्माण से |
                                                                              महात्मा गाँधी

नमस्कार दोस्तों आज हम अपने ब्लाग के माध्यम से बात करने जा रहे है आज के समाज के भयानक अत्यंत बिसैली शिक्षा सभ्यता की
प्रत्येक माता पिता यही चाहते है  बच्चा पढ़ लिखकर कुछ बने | प्रत्येक अभिभावकों की यही सपना हमेसा रहती है मेरा पुत्र या पुत्री बड़ा होकर कुछ करेगा और उसे पढ़ने के लिये  बिद्यालय भेज दिया जाता है | बच्चो की शिक्षा वही से सरु होती है लेकिन बच्चो को प्रारंभिक शिक्षा माता पिता ही देते है हमारे महान आदर्श महाकाव्य रामायण के अनुसार राजा दशरथ के चार पुत्र जिसमे बड़े  पुत्र मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान दूसरे लक्ष्मण तीसरे भरत और चौथे शत्रुघन लेकिन बहुत बड़े राजा के घर जन्म लेने का बाबजूद उनको आत्म अनुशासन में रहना पड़ा परिणाम में कुशल व्यहारिक सामाजिक सांस्कृतिक आध्यात्मिक विचारो  के  प्रतिक  बने |





मेरे कहने के तातपर्य यह है की प्राचीन समय में भी इतनी  गहरी निपुरता  नहीं था फिर भी उनके चरित्र में सत्य  और सदाचार की भावना का स्पष्ट समावेश था उनके राज्य  में कभी भी हिंसा हत्या अत्याचार राजनैतिक कलह की बात सामने नहीं आती थी अतः उनकी प्रसंसा हमारी आज की नई पीढ़ी भी करती है

हमारे राष्ट पिता बापू का कथन था की अगर आप अपने बच्चो की शारीरिक मनोवैज्ञानिक और बिषय परख शिक्षा  देना चाहते है तो सबसे पहले उन्हें चरित्रवान बनाइये आज श्री बापू हमारे बिच नहीं है लेकिन उनके बिचार आज भी जिन्दा है

इसी प्रकार महान आध्यात्मिक और हम युवाओ के प्रसंसनीय और आदर्श स्वामी विवेकानंद ने शिकागो बिश्वबिद्यालय दीक्षांत समारोह में 1892 में कहे थे की आज के युवाओ  बढ़ती असभ्यता दुशचरित्र  कलंक जो हम इन्हे शिक्षा के रूप में दे रहे है वो आने वाले समय में विनाशकारी सिद्ध होगा दोस्तों ददुर्भागय  वश उनकी वह वाणी सत्य प्रतीक हो रही है आज हम सभी युवाओ में नैतिक असभ्यता बढ़ रही है आय दिन अपरहण और बलात्कार जैसी समस्या बिष के तरह फैल रही है उसे हमे रोकना होगा यह तभी संभव  जब हमारे अभिभावक और हम अपने बच्चो को अच्छी शिक्षा के साथ साथ चरित्र निर्माण की शिक्षा दे क्योकि  व्यक्ति कितना भी पढ़ा लिखा क्यों न हो अगर उसके पास चरित्र अच्छा नहीं है तो उसकी विद्व्ता मिट्टी के समान है |

हम सभी युवाओ सयम  से रहना होगा तभी हम लोग अपने आने वाली पीढ़ी को अनुशासन और सदाचार के अच्छे रास्ते पर ले जा सकेंगे आज हमारे समाज में औरतो और बेटियों की जो दूर दशा  है वो बहोत ही निंदनीय है हम प्रसंसा करते है अपनी सरकार की जो नारियो के कल्याण के लिए अनेक योजनाय लागु की है लेकिन  जब तक हम अपनी नारियो को शुद्धता भरी नजर से नहीं देखेंगे तब तक चरित्र निर्माण संभव नहीं है अंततः बापू के सब्दो में

शिक्षा श्रेष्ट वही है जो बालक के शरीर मन आत्मा और चरित्र का उत्कृस्ट सर्वागीण विकास करे |

यह पोस्ट आप को कैसा लगा हमे कॉमेंट कर जरूर बताय अगर इस पोस्ट संबंधित कोई भी बिचार हो तो हमारे संग साझा जरूर करे

धन्यवाद













aducation system india aducation system india Reviewed by vishal pathak on August 12, 2018 Rating: 5

No comments:

Theme images by fpm. Powered by Blogger.